कोरोना वायरस क्या है? What is Covid-19

0
407

कोरोना वायरस  नेटवर्क मार्केटिंग के लिए क्यों बना है खतरा?

कोरोना वायरस एक संक्रामक है जिसकी शुरुआत चीन के एक वूहान शहर से हुआ था | आज पूरी दुनिया में ये एक गंभीर मामला बना हुआ है क्योंकि वायरस का प्रभाव सर्दी – जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ से होकर जान जाने तक की हो गयी है | कोरोना वायरस जूनोटिक ( Zoonotic) भी है जिसका मतलब ये है कि इस वायरस का प्रभाव इंसानों के साथ पशुओं को भी हो सकता है | विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के रिपोर्ट के मुताबिक ये वायरस लगभग 70 देशों तक फैल चुकी है | जापान, साउथ कोरिया, थाईलैंड, ताईवान, युनाएटेड
स्टेटस जैसे देशों में 20 जनवरी 2020 से प्रवेश की शुरुआत हो गयी थी |
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने 30 जनवरी 2020 को इसे वैश्विक समाज के स्वास्थ्य को इमरजेंसी घोषित कर दिया, जो आज अंतरास्ट्रीय चिंता बनी हुई है,
WHO ने इस वायरस को COVID – 19 का नाम रखा है |

कोरोना वायरस का नाम COVID-19 क्यों पडा?

वास्तव में कोरोना वायरस का संक्षेप नाम COVID-19 विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के द्वारा रखा गया है, WHO ने इसका पुरा नाम COrona VIrous Disease 2019 रखा है इसीलिए इसका एक छोटा नाम COVID-19 पड़ा |

नेटवर्क मार्केटिंग में एक टूल के रूप में ज्ञान का उपयोग कैसे करें?

कोरोना वायरस पाए जाने के लक्ष्ण –

1) कोरोना संक्रमित व्यक्ति को सुखी खाँसी आती है |
2) कभी कभी व्यक्ति को बुखार का भी शिकायत भी होता है पर ध्यान रखने वाला बात ये है कि 99.5 डिग्री फ़ारनहाईट तक व्यक्ति के शरीर का तापमान रहे तो उसे बुखार नही होता है और जैसे ही शरीर का तापमान 99.5 डिग्री फ़ारनहाईट तक हो जाती है तो ये कोरोना वायरस को देखते हुए चिंता का विषय बन जाता है|
3) वैसे व्यक्ति जिनको सर्दी खाँसी हो चुकी है और आने वाले 5 दिन के अंदर ही उस व्यक्ति को साँस लेने में तकलीफ होने लगती है मतलब वो बहुत ही कम सेकंड के लिए अपने श्वास को रोक पाता है |
4) हाल ही WHO ने बताया कि संक्रमित व्यक्ति का सूंघने और स्वाद चखने की क्षमता भी गिर जाती है |

वायरस से बचाव के क्या उपाय हैं?

वायरस से हमें बचाव करने के लिए सतर्क रहने के साथ कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे जैसे –
1) किसी भी सतह को नंगे हाथों से छूने से बचे पर अगर आपतकालीन स्थिति में अगर आप स्पर्श कर लेते हैं तो अपने हाथों को न्यूनतम 20 सेकंड तक हैंडवाश से धोये |
2) कामकाज व्यक्तियों के साथ वे सारे साधारण व्यक्तियों जिनके पास बार बार हाथ धोने की सुविधा नही है वो अपने हाथों को हैंड सैनिटाइजर का प्रयोग कर सैनिटाइज् जरूर से करे |
3) मास्क को WHO के बताये गए तरीके से पहने |
4) अगर व्यक्ति को  सर्दी – जुकाम है तो अपने पास वो टिशू पेपर रखे और उसका उपयोग करे  और अगर  छिंकते वक़्त टिशू पेपर न मिले तो कोहिनी को मोड़कर नाक के पास ले जाकर छींके |
5) बीमार व्यक्तियों से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाकर रखे |
6)  घर में रहने का कोशिश करे|
7) कहीं भी भीड़ भाड़ वाले जगह जाने से बचे | अगर बहुत ज्यादा जरूरी नही हो तो बर्थडे पार्टी, किटी पार्टी, शादी, मर्खि, जिम, सिनेमा हॉल, रेस्टोरेंट  इत्यादि जगह जाने से बचे |

आगे हम सीखेंगे व्हाट्सएप बिजनेस एप को कैसे डाउनलोड करें और व्हाट्सएप बिजनेस एप के फ्यूचर को अपने व्यवसाय में कैसे उपयोग करें|

भारत में वर्तमान मे कोरोना वायरस के कितने मामले हैं?

पुष्टि किये गए केस –
ठीक हो गए              –
मौत         

ये वायरस पूरी दुनिया मे कैसे फैली?

जैसा कि हम जान चुके हैं कि ये संक्रामक वायरस है और ये अपने जैसे और नये वायरस तब बनाते हैं जब ये कोई जीवित चीजों के संपर्क में आता है | किसी भी सतह को नंगे हाथों को छूने से, सांसो से, छिंकते वक़्त के स्लाइवा के द्वारा ये दूसरे इंसानो तक फैल कर ये अपनी संख्या पूरे दुनिया में फैलाई जा रहे हैं|
अंतराष्ट्रीय आवागमन, राष्ट्रीय आवागमन, जगरुकता की कमी और इंसानो की लापरवाही की वजह से आज कोरोना वायरस पूरी दुनिया में अपना खौंफ जमाये बैठा हुआ है|

कोरोना के संक्रमण को फैलने से कैसे रोके?

1) घर पर अकेले समय बिताए |
2) घर में कोई अतिथि को आमंत्रित न करे |
3) घर मे रसोई व बाथरूम को लगातार साफ करते रहे |
4) कपड़े को लगातार अच्छे से साफ करके पहने |
5) अगर आप आपत्कलिन स्थिति में 2-4 लोगों के साथ हैं तो जगरुक रहे |
6) ऑफिस जाने से बचे |

अगर किसी को संदेह है कि उसे कोरोना वायरस हैं तो वो क्या करे?

1) सबसे पहले व्यक्ति क्वारनटाईन् मे रहे मतलब 14 दिन तक आप अकेले एक कमरे में रहे|
2) उस वक़्त सारी सावधानी बरतें |
3) क्वारनटाईन् के पश्चात कोरोना टेस्ट करवाये |
4) और अगर फिर भी पॉजिटिव आये तो सरकारी कंट्रोल रूम में भर्ती हो जाए |
5) साथ ही डॉक्टर के सारे सलाह को माने |

क्या कोरोना वायरस का कोई इलाज है?

मौजूदा रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस का कोई प्रमाणित इलाज व दवाई उपलब्ध नहीं है| विश्व के सभी विख्यात डॉक्टर इसके उपचार के लिए वो हर एक संभव प्रयास कर रहे हैं |

कोरोना वायरस किसी जीवित शरीर में कितने दिनों के लिए रहती हैं?

WHO के रिपोर्ट के मुताबिक  वायरस किसी जीवित शरीर में 1 से 12.5 दिनों तक रहता है, लेकिन 14 दिनों तक अधिकतम रह सकता है |

नेटवर्क मार्केटिंग ज्वाइन करने से पहले कंपनी का कानूनी पहलू को ध्यान से देखें?

मैट्रिक्स प्लान  अन्य प्लानो से अलग क्यों है?

कोरोना महामारी के दौरान किसान वर्ग के व्यक्तियों पर क्या प्रभाव पड़ा?

Covid – 19 ने वैश्विक स्तर पर व्यवसायों के क्षेत्र पर ढेरों झटका दिया परंतु भारतीय कृषि क्षेत्र सरहानीय है| कृषि के क्षेत्र में कृषकों ने अलग- अलग चुनोतियों से संघर्ष करके हर एक बार अच्छा प्रदर्शन प्रस्तुत किया है |

भारत में कोरोना महामारी के संकट को देखते हुए संपूर्ण भारत लॉकडॉन मे रहा परंतु भारत सरकार ने खेती को इन हालातो में भी आवश्यक गतिविधि के रूप मे घोसित किया | सभी किसानों ने इस वर्ष अच्छी मात्रा में फसल लगाए और सरकार ने इसे अनुमति भी दी परंतु के कृषि क्षेत्र मे चिंता का विषय यह है कि वे अपने अपने फसल को लॉकडॉन की वजह से निर्यात नही कर पाए जिसका सीधा असर उनके आर्थिक स्तिथि पे दिख रहा है|
पिछले वर्ष मतलब लॉकडॉन से ठीक 1 वर्ष पहले किसानों को अपने फसल निर्यात करने की पूरी सुविधाएं थी जिससे उन्हे फसल को थोक में अलग अलग व्यापारियों के पास बेचकर अच्छे मुनाफा अर्जित कर पाते थे|  कारण कि उन्हें प्रति किलोग्राम बढ़ते मांग के कारण अच्छा कीमत मिलता था परंतु इस वर्ष लॉकडॉन मे मांग होने के बावजूद भी प्रति किलोग्राम अच्छी मांग के बावजूद भी  कीमत नही मिल पा रही है क्योंकि अलग – अलग प्रदेशों में निर्यात नहीं हो पा रहा | क्योंकि उन्होंने अच्छे मात्रा मे पैदावार करा था और उतने मात्रा की फसल लोकल बाजारों मे बेचना संभव भी नही है इसीलिए वे कम से कम कीमत मे फसल को बेचना चाहते हैं अंततः किसान अपनी पूंजी निकालने के लिए भी मुश्किलों का सामना कर रहे हैं|
पर अच्छी खबर ये है कि भारत सरकार ने इस मुद्दे को गंभीरता से लिया और एक अच्छी योजना बनाके सभी किसान वर्ग के व्यक्तियों को जिन्होंने जन धन योजना के तहत जिनका भी बैंक खाता खुला था उन्हें आर्थिक सह्यता देकर उनकी भरपाई की गई |

नेटवर्क मार्केटिंग  कंपनी को ज्वाइन करने  से पहले रखें  5 बातों का ध्यान?

(Positioning Time)   किसी भी व्यवसाय या नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी  मैं ज्वाइन करने के लिए  सही समय बहुत जरूरी होता है| इसे समझने के लिए मैं 3 भागों में बांटा हूं?

भारत में कोरोना वायरस की वजह से आर्थिक व्यवस्था पर क्या असर पड़ा?

संयुक्त राष्ट्र की काँफ्रेंस अॉन ट्रेंड डेवलपमेंट् ने खबर दी है कि दुनिया के 15 सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओ में से से  भारत भी एक प्रभावित देश है |
विषेशज्ञ का कहना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था पर कितना प्रभाव पड़ेगा वो 2 बातों पर निर्भर करेगा पहला तो ये कि भविष्य में कोरोना महामारी की समस्या कितनी गंभीर रहती है? और दूसरा इसका वैक्सीन कब तक बनता है?

वर्ल्ड बैंक ने एक रिपोर्ट में कहा कि 2019-20  वितीय वर्ष में वृद्धि दर घटकर 5% हो गयी है और वित्तीय वर्ष 2020-21 में ये प्रतिशत घटकर 2-8% ही रह जायेगी | समस्या इसलिए भी बना हुआ है क्योंकि भारत की अर्थव्यवस्था वित्तीय वर्ष 2018-19 में भी धीमी थी जिसके वजह से भारत की विकास पे दबदबा और भी बढ़ रहा है |

अगर वर्तमान में प्रति व्यक्ति आय की बात करे तो ये भी कम हो गया है क्योंकि लॉकडॉन की वजह से भारत के सभी छोटी बड़ी सभी व्यवसाय ठप पड़ी हुई है जिससे व्यक्तियों की नौकरियां जा रही हैं उनकी आर्थिक स्तिथि पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है नतीजा ये है कि देश की प्रति व्यक्ति आय भी लगातार घटती जा रही है | हाल में ही इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाईजेसन ने कहा था कि कोरोना वायरस से सिर्फ स्वास्थ्य को लेकर चिंता नहीं है बल्कि लेबर मार्केट पर भी आर्थिक संकट टूट पड़ रहा है |

नेटवर्क मार्केटिंग व्यवसाय का जन्म कब और कहां हुआ ?

भारत सरकार ने क्या कोरोना वायरस को लेकर कोई ऐडवायजरी नंबर जारी किया है?

हाँ, भारत सरकार ने ऐडवायजरी नंबर  जारी किया हुआ है जिसमे कंट्रोल रूम में संपर्क 24*7 घंटे किया जा सकता  ये नंबर उनके लिए जारी किया गया है जिनको आशंका है कि उसे कोरोना वायरस हो गया है या कोरोना वायरस से संबधित सारे जानकारी चाहिए
है |
आशा है आप सभी को हमारी ये पोस्ट से कोरोना वायरस को लेकर कुछ महत्वपूर्ण जानकारी मिली होगी |

भारत में नेटवर्क मार्केटिंग भविष्य क्या और यह व्यवसाय कितनी तेजी से बढ़ रही है आइए एक रिपोर्ट में देखते हैं ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here